Nishad Society

अमित शाह से मिले जीतन राम मांझी, एनडीए के साथ मिलकर बिहार विधान सभा का चुनाव लड़ने की घोषणा

बिहार विधानसभा चुनाव से कुछ पहले भाजपा को आज तब बड़ी कामयाबी मिली जब राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और महादलित नेता जीतन राम मांझी ने घोषणा की कि नीतीश-लालू के अपवित्र गठबंधन को शिकस्त देने के लिए वह भाजपा से मिलकर चुनाव लड़ेंगे।

भाजपा नेता अमित शाह से मिलने के बाद मांझी ने कहा, ‘बिहार में नीतीश कुमार और लालू प्रसाद के बीच अपवित्र गठबंधन बना है। मैंने इस बारे में अमित शाह से बात की। हमें लालू और नीतीश को सत्ता में आने से रोकने के लिए साथ काम करना होगा।’

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से 30 मिनट की बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा, ‘साथ मिलकर लड़ेंगे। अभी सीट के बारे में कुछ डिसाइड नहीं हुआ है।’ राजद प्रमुख लालू प्रसाद भी मांझी को अपने गठबंधन का हिस्सा बनाने की पैरवी कर रहे थे लेकिन उन्होंने स्पष्ट कर दिया था कि वह ऐसे किसी गठबंधन का हिस्सा नहीं बनेंगे जिसमें उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाने वाले नीतीश कुमार शामिल हों।

मांझी ने कहा कि वह राज्य भर में घूमे हैं और वहां की जनता की आम राय है कि वे लालू-नीतीश गठबंधन से ‘निजात’ पाना चाहते हैं। मांझी ने दावा किया, ‘यादव समुदाय महसूस करता है कि लालू ने उस नीतीश से हाथ मिलाकर उनके साथ धोखा किया है, जिसने हजारों यादवों को छोटे.मोटे आरोपों में जेल की सलाखों के पीछे डाल दिया। वे अब लालू को अपना नेता नहीं मानते हैं। इन परिस्थितियों में मैंने महसूस किया कि एक विकल्प की जरूरत है।’

पूर्व मुख्यमंत्री ने हालांकि स्पष्ट किया कि वह अपनी नयी पार्टी ‘हिन्दुस्तान अवाम मोर्चा’ चलाते रहेंगे और यह लालू-नीतीश गठबंधन को नष्ट करने के लिए राजग का हिस्सा बनेंगे। सीटों के बंटवारे और राजग में औपचारिक रूप से शामिल होने के बारे में किए गए सवालों पर उन्होंने कहा, ‘यह निर्णय हुआ है कि एक-दूसरे की मदद के लिए जितना भी संभव होगा हम करेंगे। हमने सीटों के बंटवारे के बारे में कोई चर्चा नहीं की। हमारी कोर कमेटी 15 जून को मिलेगी और निर्णय करेगी। हमारी तैयारी सभी 243 सीटों के लिए है।’

यह पूछे जाने पर कि क्या वह राजग के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे, मांझी ने कहा, ‘बेहतर यही होगा कि चुनाव के बाद मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा की जाए।’ शाह के साथ चर्चा के दौरान केन्द्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और बिहार मामलों के प्रभारी एवं महासचिव भूपेन्द्र यादव भी मौजूद थे। भाजपा अध्यक्ष ने जीतन राम मांझी से मिलने से पहले आज राजग के घटक दल आरएलएसपी के नेता उपेन्द्र कुशवाहा से भी मुलाकात की। दोनों दलों के बीच सीटों के बंटवारे के संबंध में चर्चा हुई।

सूत्रों के अनुसार, बीजेपी मांझी को बिहार में 30 सीटें दे सकती है, जबकि मांझी बिहार में 50 सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं। हालांकि, सीटों को लेकर अभी कोई आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। बताया जा रहा है कि पप्‍पू यादव भी एनडीए में शामिल हो सकते हैं। इससे पहले, पटना से रवाना होने के समय, बिहार विधानसभा चुनाव में राजग की ओर से आशा अनुरुप सीटें नहीं मिलने से उससे हम का तालमेल अब तक मूर्त नहीं ले पाने के बारे में पूछे जाने पर मांझी ने सवाल को टालते हुए कहा कि आप लोग हमसे अधिक जानना चाहते हैं।

पार्टी के प्रवक्‍ता दानिश रिजवान ने बताया कि मांझी अपनी नवगठित पार्टी के लिए चुनाव चिन्ह के तौर पर चापाकल दिए जाने का आग्रह निर्वाचन आयोग से करने दिल्ली जा रहे हैं। गौर हो कि जीतन राम मांझी ने नीतीश से बगावत करने पर जदयू की ओर से नीतीश को फिर से मुख्यमंत्री पद के लिए चुन लिए जाने पर मांझी ने गत 20 फरवरी को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।
By:- zeenews.india.com